सरस्वती श्रुति महती महीयताम्।

सम्पूर्ण भारतवर्ष में राजस्थान एक मात्र ऐसा प्रदेश हे जंहा संस्कृत शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए वर्ष १९५८ से ही पृथक ‍निदेशालय स्थापित है ।

जयतु संस्कृतम। जयतु भारतम् ।

संस्कृत एक जीवन्त भाषा है। यह भारत की आत्मा है । संस्कृत हमारे प्राचीन इतिहास को वर्तमान से जोडती है तथा भविष्य का मार्ग प्रशस्त करती है । विज्ञान से पहले ज्ञान का प्रादुर्भाव हुआ और यह ज्ञान संस्कृत भाषा मे निहित है ।
Last Update Date :20-oct-2014
         Site Designed & Hosted by National Informatics Center . Contents provided by Department of Sanskrit Education Govt. of Rajasthan,2nd Floor, Block-6, 'SHIKSHA SANKUL', Jawahar Lal Nehru Marg, Jaipur, Rajasthan.  
      Nodal officer : Joint Director , Phone no. 0141-2704357, Fax No.0141-2704358, e-mail: dir-sans-rj@nic.in  
      The website can be best viewed using resolution 1024 X 768